सचिन पायलट को अशोक गहलोत खेमे ने दिया 'डॉक्‍टरी सलाह' का हवाला

राजस्‍थान में प्रस्‍तावित कैबिनेट विस्‍तार संभवत; फिलहाल कुछ समय के लिए टल गया है. नाराज चल रहे कांग्रेस नेता सचिन पायलट खेमे को 'एडजस्‍ट' करने के लिए कैबिनेट विस्‍तार का दबाव झेल रहे सीएम अशोक गहलोत ने इसे लेकर 'डॉक्‍टरी सलाह' का हवाला दिया है. न्‍यूज एजेंसी ने सीएम अशोक गहलोत के एक करीबी के हवाले से बताया कि डॉक्‍टरों ने कोविड के कारण सीएम को 'वन-टू-वन मीटिंग' से बचने की सलाह दी है.

मुख्‍यमंत्री के स्‍पेशल ऑफिसर लोकेश शर्मा ने सोमवार को कहा, ' डॉक्‍टरों की कोविड के बाद के ऐहतियाती उपायों के मद्देनजर मुख्‍यमंत्री, व्‍यक्तिगत रूप से लोगों से नहीं मिल पा रहे हैं. सभी बैठकें और बातचीत केवल वीडियो कॉन्‍फ्रेंस और वीडियो कॉल के जरिये की जा रही हैं. डॉक्‍टरों ने कहा है कि एक-दो माह के लिए वे (सीएम) केवल वीडियो कॉन्‍फ्रेंस के जरिये बैठक करें. विभागीय बैठकें और समीक्षा बैठकें भी वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिये की जा रही हैं.'

गौरतलब है कि कई माह से सीएम गहलोत, दिल्‍ली में पार्टी नेतृत्‍व की ओर से कद्दावर नेता सचिन पायलट को किए गए वादे के अनुसार 'बदलाव' करने का दबाव झेल रहे हैं. इस वादों में पायलट खेमे को राजस्‍थान सरकार और पार्टी इकाई में बेहतर प्रतिनिधित्‍व देना शामिल हैं. सचिन पायलट की ओर से बागी तेवर अपनाए जाने के दौरान पिछले साल, सुलह के प्रयासों के तहत गांधी परिवार की ओर से यह वादे किए गए थे. बहरहाल, गहलोत खेमे के नए बयान से 'बदलाव' को लेकर फिर अनिश्चितता की स्थिति बन गई है. यह स्थिति तब है जब खुद राजस्‍थान कांग्रेस अध्‍यक्ष गोविंद सिंह ने शनिवार को कहा था कि कैबिनेट फेरबदल जल्‍दी ही होगा और राज्‍य इकाई में कोई समस्‍या नहीं है. गोविंद ने संवाददाताओं से चर्चा के दौरान कहा था, 'राजस्‍थान में जल्‍द फेरबदल होगा. अजय माकन जी (राजस्‍थान के कांग्रेस प्रभारी) ने बताया कि राज्‍य में फेरबदल होगा.'