प्रदेश सरकार द्वारा चलाए जा रहे गेहूं क्रय केंद्रों पर पड़े ताले

सहारनपुर। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के आवाहन पर आज जनपद सहारनपुर में कांग्रेस जिलाध्यक्ष चौधरी मुजफ्फर अली के नेतृत्व में कांग्रेसजनों ने विभिन्न गेहूं क्रय केंद्रों पर जाकर जमीनी हकीकत को जाना, तो उन्हें अधिकतर केंद्रों पर ताले पड़े मिले और किसानों के लिए सरकारी घोषणा है हवा हवाई साबित हुई। प्रदेश सरकार ने क्रय केंद्रों पर गेहूं खरीद की तारीख 15 से बढ़ाकर 22 जून की, लेकिन केंद्रों पर बारदानें की आपूर्ति ना होने से गेहूं की खरीद बाधित हुई और किसानों को इसका कोई लाभ नहीं मिला। जिला अध्यक्ष चौधरी मुजफ्फर अली ने बताया कि कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव एवं प्रदेश प्रभारी श्रीमती प्रियंका गांधी ने किसानों के हित में प्रदेश के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर गेहूं खरीद केंद्रों को 15 जुलाई तक चलाने व गेहूं खरीद सुनिश्चित करने की मांग की।

चौधरी मुजफ्फर ने बताया कि आज 22 जून को हम जब मल्हीपुर, नंदी फिरोजपुर, अहमदपुर घाटेडा, रामपुर मनिहारान व गंगोह क्षेत्र सहित जनपद के दर्जनों गेहूं क्रय केंद्रों पर गए तो हमें अधिकतर केंद्रों पर ताले पड़े मिले और जिन एक-दो केंद्रों पर इक्का-दुक्का कर्मचारी थे भी तो वहां बारदाने की उपलब्धता न होने के कारण गेहूं की खरीदारी बाधित मिली प्  चौधरी मुजफ्फर अली ने इसे किसानों के साथ भाजपा सरकार का धोखा बताया और कहा कि किसान विरोधी ये सरकार किसान हित का सिर्फ नाटक करती है। चौधरी मुजफ्फर ने कहा कि प्रदेश में पिछले साल 1200 रुपए कुंतल धान बेचने को मजबूर हुआ किसान, आज गेहूं की फसल भी ना बिकने के कारण खून के आंसू रोने को मजबूर है। चौधरी मुजफ्फर ने कहा कि यदि किसान को फसल का न्यूनतम मूल्य भी ना मिले और बाजार में उपभोक्ता आसमान छूती कीमतों पर सामान खरीदने को मजबूर हो तो यह किसानों और उपभोक्ताओं के साथ सरकारी धोखा नहीं तो और क्या है? चौधरी मुजफ्फर ने मांग की कि किसानों की कुल पैदावार का 85 प्रतिशत हिस्सा क्रय केंद्रों द्वारा खरीदा जाए। यह सरकार द्वारा सुनिश्चित किया जाये। रामपुर चेयरमैन प्रतिनिधि व पीसीसी सदस्य विवेक कांत सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश का किसान पिछले तीन दशकों से सरकारी शोषण का शिकार है और यही वजह है कि पड़ोसी राज्यों पंजाब-हरियाणा के किसानों जैसी खुशहाली के लिए उत्तर प्रदेश का किसान आज भी भटक रहा है। जिलाध्यक्ष चौधरी मुजफ्फर अली के साथ क्रय केंद्रों पर पहुंचने वालों में मुख्य रूप से रामपुर मनिहारान चेयरमैन प्रतिनिधि व पीसीसी सदस्य विवेक कांत सिंह के अलावा जिला उपाध्यक्ष मनीष त्यागी, जिला महासचिव राकेश मोगा, जिला सचिवगण मधु सहगल व दाऊद हसन, आबिद हसन, जाकिर, प्रवेज चकवाली, आजिम, हनी सरदार, अनीस मलिक, मशहूर खान आदि मुख्य रूप से शामिल रहे।