चंद्रोदय मंदिर में नित्यानंद गौरांग महाप्रभु को कराया नौका बिहार

मथुरा। गौड़िया वैष्णव सम्प्रदाय में ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली त्रयोदशी को पनीहाटी चिड़ा दही महामहोत्सव के रूप में मनाया जाता है। इसी क्रम में बुधवार को स्वामी भक्ति वेदांत मार्ग स्थित वृन्दावन चंद्रोदय मंदिर में पानीहाटी चिड़ा दही महोत्सव हर्षो उल्लास के साथ मनाया गया। प्रातः कालीन बेला की मंगला आरती से शुरू हुए, इस महामहोत्सव में भगवान् श्रीश्री राधा वृन्दावन चंद्र की धूप आरती, नवीन पोषाक धारण, छप्पन भोग, पालकी उत्सव, फूल बंगला, पुष्प महाभिषेक एवं नौका विहार आकर्षण का केन्द्र बना रहा।कार्यक्रम में संध्या बेला के दौरान मंदिर के भक्तों द्वारा नित्यानंद एवं गौरांग महाप्रभु के विग्रह को पालकी द्वारा मंदिर प्रांगण स्थित कल्याणी पर लाया गया। जहाँ पर नित्यानंद एवं गौरांग महाप्रभु ने कल्याणी के पावन जल में डुबकी लगायी। इसके पश्चात नित्यानंद एवं गौरांग महाप्रभु के श्रीविग्रह का पुष्प महाभिषेक वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ संपन्न हुआ। इस दौरान निताई गौरांग को बहुत ही आकर्षक वस्त्र एवं विशेष रूप से तैयार की गई पुष्पों की माला से सजाया गया एवं उन्हें नौका विहार के लिए ले जाया गया। जहाँ पर भक्तों ने भगवान् के श्री विग्रह पर पुष्प अर्पित कर नित्यानंद एवं गौरांग महाप्रभु का शुभाशीष प्राप्त किया। कार्यक्रम के अंत में नित्यानंद एवं गौरांग महाप्रभु की महाआरती का आयोजन हुआ। जिसमें बढ-़चढ़ कर भक्तों ने हिस्सा लिया।