लौटी बाजार की रौनक, सेंसेक्स हरे निशान पर

नई दिल्ली : बाजार में एक बार फिर रौनक है। सेंसेक्स अब 33.27 अंक की बढ़त के साथ 52,377.72 के स्तर पर कारोबार कर रहा है। वहीं निफ्टी 7.60 अंकों की तेजी के साथ 15,690.95 के स्तर पर। निफ्टी टॉप गेनर में इस समय आडाणी पोर्ट 6.05 फीसद की तेजी के साथ टॉप पर है। वहीं अडाणी पावर में केवल खरीदारों की वजह से सर्किट लगा हुआ है। इसका शेयर अभी 4.96 की तेजी के साथ 120.60 रुपये है।

गिरावट के बाद बाजार में अब रिकवरी देखने को मिल रही है। सेंसेक्स अब 257.29 अंकों के नुकसान के साथ  52,087.16 पर कारोबार कर रहा है। वहीं निफ्टी अब 69.65 अंकों की गिरावट के साथ 15,613.70 के स्तर पर है। अगर सेक्टोरल इंडेक्स की बात करें तो एफएमसीजी, मीडिया और रियलिटी को छोड़ पीएसयू बैंक, निफ्टी मेटल, निफ्टी ऑटो, निफ्टी बैंक, प्राइवेट बैंक , आईटी इंडेक्स, फाइनेंशियल सर्विसेज व फार्मा  इंडेक्स में लाल निशान पर हैं।

शेयर बाजार इस हफ्ते के पहले दिन बड़ी गिरावट के साथ खुला। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का 30 स्टॉक्स वाला प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 456 अंकों के नुकसान के साथ खुला। शुक्रवार को यह 52,344.45 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं निफ्टी ने भी लाल निशान के साथ आज दिन के कारोबार की शुरुआत की। शुरुआती कारोबार में निफ्टी 165.55 अंकों के नुकसान के साथ 15,517.80 के स्तर पर था तो वहीं सेंसेक्स 51,740.19 के निचले स्तर पर। 

वैश्विक शेयर बाजारों में भारी बिकवाली के बीच आईसीआईसीआई बैंक, एसबीआई और एलएंडटी जैसे बड़े शेयरों में गिरावट के चलते प्रमुख शेयर सूचकांक सेंसेक्स सोमवार को शुरुआती कारोबार में लगभग 600 अंक गिर गया।  इस दौरान 30 शेयरों वाला बीएसई सूचकांक 596.78 अंक या 1.14 फीसदी की गिरावट के साथ 51,747.67 पर कारोबार कर रहा था। इसी तरह व्यापक एनएसई निफ्टी 175.35 अंक या 1.12 प्रतिशत की गिरावट के साथ 15,508 पर पहुंच गया।

सेंसेक्स में सबसे अधिक दो प्रतिशत की गिरावट एमएंडएम में हुई। इसके अलावा एलएंडटी, अल्ट्राटेक सीमेंट, आईसीआईसीआई बैंक, मारुति और एसबीआई में भी गिरावट रही।  दूसरी ओर एनटीपीसी, एचयूएल, सन फार्मा और एशियन पेंट्स हरे निशान में थे।  पिछले सत्र में सेंसेक्स 21.12 अंक या 0.04 प्रतिशत बढ़कर 52,344.45 पर बंद हुआ था, जबकि निफ्टी 8.05 अंक या 0.05 प्रतिशत की गिरावट के साथ 15,683.35 पर बंद हुआ।  अंतरराष्ट्रीय तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड 0.53 फीसदी बढ़कर 73.90 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा था।

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने जून में अबतक भारतीय बाजारों में शुद्ध रूप से 13,667 करोड़ रुपये डाले हैं। भारतीय बाजार विदेशी निवेशकों के लिए आकर्षक बने हुए हैं। हालांकि, इस सप्ताह एफपीआई ने भारतीय शेयर बाजारों से निकासी की।  डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, एफपीआई ने एक से 18 जून के दौरान शेयरों में 15,312 करोड़ रुपये डाले। इस दौरान उन्होंने ऋण या बांड बाजार से 1,645 करोड़ रुपये की निकासी की। इस तरह उनका शुद्ध निवेश 13,667 करोड़ रुपये रहा।  इससे पहले एफपीआई ने मई में 2,666 करोड़ रुपये और अप्रैल में 9,435 करोड़ रुपये की निकासी की थी।