निक्की तंबोली ने इमोशनल पोस्ट शेयर कर बयां किया भाई की मौत का दर्द, कहा- कोई मुझे नहीं समझ रहा

बिग बॉस फेम निक्की तंबोली ने हाल ही में अपने बड़े भाई को खोया है, जिसके बाद निक्की अपने आपको स्ट्रांग रखते हुए शूटिंग भी कर रही है। इस मुश्किल दौर में भी निक्की हसना नहीं भूली लेकिन अब एक बार फिर उनकी इमोशनल साइड बाहर आ गई है। आपको बता दे, निक्की तंबोली इस वक्त अपने परिवार से दूर साउथ अफ्रीका में खतरों के खिलाड़ी 11 की शूटिंग कर रही है। इस दौरान निक्की अपनी कई फोटोज और वीडियोज भी शेयर करती रहती है। जिसमे वो दिखने में नॉर्मल भी लगती है, लेकिन अंदर से एक्ट्रेस बुरी तरह टूटी हुई हैं। भाई के निधन के कुछ दिन बाद निक्की, खतरों के खिलाड़ी में हिस्सा लेने कैप टाउन पहुंच तो गई हैं, लेकिन यहां भी उनका मन नहीं लग रहा है और उन्हें भाई की याद सता रही है। एक्ट्रेस ने अब अपने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट शेयर किया है जिसमें उन्होंने बताया है कि हर रात वो कितनी मुश्किल से सोती हैं, उनके लिए ये वक्त कितना मुश्किल है। एक्ट्रेस ने लिखा, ष्मैं अपने भाई को बहुत मिस करती हूं, हर रात को खुद को सुलाने के लिए सहला रही हूं। कुछ लोग जो मुझे जानते हैं उन्होंने मुझे समझाया कि ये उसके जाने का वक्त था। मुझे खुश होना चाहिए कि अब वो किसी दर्द में नहीं हैं वो बीमार नहीं हैं इसलिए मुझे उन्हें जाने देना चाहिए। लेकिन मेरा दिमाग ये मानने को राजी नहीं होता। मैं अपने भाई से बात करना चाहती हूं। जब ये बात अपने दोस्तों को कहती हं तो वो कहते हैं कि मैं भाई से अब भी बात कर सकती हूं, लेकिन चीजें पहले जैसी नहीं हैं। वो लोग नहीं समझ रहे कि मैं क्या महसूस कर रही हूं। हम एक दूसरे के बहुत करीब थे, हम हमेशा परिवार के बाकी सदस्यों से एक दूसरे को प्रोटेक्ट करते थे। मेरे माता पिता हमेशा कहते रहते हैं कि मैं बहुत मजबूत हूं, उन्हें लगता है कि मैं अब ठीक हूं, मजबूत हूं। लेकिन मैं बिल्कुल भी मजबूत महसूस नहीं कर रही हूं। मुझे सब कुछ बहुत मुश्किल लग रहा है और हर दिन जीना बहुत मुश्किल हो रहा है। मैंने अपने भाई की मौत को स्वीकार नहीं किया है। निक्की ने आगे लिखा-मुझे लगता है कि उदासी मेरी जिन्दगी पर छा गई है और मै उसमे डूबती जा रही हूँ। मुझे लगता है कि धरती का एक टुकड़ा गायब हो गया है और मेरा एक हिस्सा मेरे भाई के साथ मर गया है। किसी दिन, जैसे आज, जीने की कोई वजह नजर नहीं आती और जिंदा रहने का कोई कारण नहीं दीखता। मुझे नहीं लगता कि मै ये उदासी बर्दाश कर पाऊँगी। कुछ लोग पूछते है कि मै अपनी जिन्दगी मे आगे कब बढूंगी और दुख मनाना ककी भी बात कब बंद करूंगी, जो मुझे लगता है कि ये बिकुल सपोर्टिव नहीं है। अभी 10 दिन भी नहीं हुए है और मुझे नहीं लगता कि मै दुख मनाना कभी भी बंद कर पाऊँगी। लोग कहते है कि मुझे अपने परिवार के लिए स्ट्रांग बनना पड़ेगा। मुझे अपने भाई के लिए स्ट्रांग बनना पड़ेगा क्योकि वो मुझे ऐसे उदास नहीं देखना चाहता होगा। मुझे और गिलटी फील होता है ये महसूस कर के कि मै क्या फील कर रही हूँ और मुझे नहीं लगता कि मुझमे अब कोई ताकत बची है। मै लोगो के साथ हस्ती हूँ, बैठती हूँ, नार्मल रहने की कोशिश करती हूँ और कई बार फनी रहने की भी कोशिश करती हूँ लेकिन जब मेरे दिमाग यही सब चीजे चल रही है तो इन सब बातो का कोई मतलब नहीं है। निक्की ने अपने इस पोस्ट के अंत मे डिप्रेशन को लेकर बात की और बताया की आप इससे कितना भी बचने की कोशिश करो ये आपको दुबारा निगल ही लेता है।