पूंजीपतियो के आगे लाचार गोंडा प्रशासन , संकट काल में हो रहा मुनाफे का व्यवसाय

गोंडा । 6 मई को सुबह सात बजे से ही आवास विकास कालोनी में स्थित गुटखा व्यवसायी नंदी बाबा के घर के सामने कर्फ्यू के बीच चहल कदमी और भीड़ देखी गयी, लाक डाउन में भी भीड़ क्यों थी ये जानने की उत्सुकता में वहां खड़े लोगों ने बताया की ये घर कमला पसन्द के डिस्ट्रीब्यूटर का है, यहां पहली शिप्ट में सात बजे से पहले ही बड़े व्यापारियों को डिलीवरी दी जा चुकी है जो वाहनों में भर कर ले जाया गया है, इकट्ठा हुए छोटे दूकानदार  इस उम्मीद में खड़े दिखे की थोड़ा बहुत माल उन्हें भी मिल जाएगा लेकिन कुछ देर बाद डिस्ट्रीब्यूटर और उसका अमीन बाहर निकला और वहां से भाग जाने को कहा, इस दौरान डिस्ट्रीब्यूटर से बात की गयी तो उन्होंने बताया की लाक डाउन की वजह से माल नही आ रहा है लोग अनावश्यक भीड़ लगाये रहते हैं। उनके इस जबाव की सच्चाई कुछ और ही थी दर असल जिले की दूर दराज की बाजारों के बड़े दूकान दारों को थोक माल महंगे दामों में बिक्रय किया जाता है ।यदि ऐसा नही है तो छोटे दूकान दार चोरी छिपे 5 वाला कमला सात से आठ रूपये में कैसे बेंच रहे हैं हकीकत तो यही है की जिला प्रशासन जनपद में ही चल रही ऐसी लूट के आगे विवश है लोगों का कहना है की ब्यवसाई  का सम्बन्ध भाजपा के कई बड़े नेताओं और अधिकारियों से होने की वजह से पूरी दबंगई के साथ कमला पसन्द गुटखे की ब्लैक मार्केटिंग धड़ल्ले से की जा रही है।

कोविड 19 की त्रासदी में जहां एक तरफ जीवन बचाने की जद्दोजहद चल रही है आंशिक कर्फ्यू के जरिये संक्रमण की चेन तोड़ने की कोशिश की जा रही है ऐसे में जनपद में ही जहां प्रसाशनिक अमला मौजूद है वहां से ऐसी तस्वीरें आना लापरवाही का सबसे बड़ा उदाहरण है।