लाॅकडाउन में गरीबों की मदद के लिए आगे आई अर्चना ग्रामोद्योग सामाजिक संस्था

सहारनपुर। अर्चना ग्रामोद्योग सामाजिक संस्थान कोरोना संकट के समय में सेवाएं देती आ रही है बहुत वडंबना की बात है कि इस बार बहुत सारे परिवार जिन के सभी सदस्य पॉजिटिव थे और खाना बनाने में असमर्थ थे ऐसे हालात को देखते हुए  कोरोना पॉजिटिव होने पर एक दूसरे के संपर्क में आने से दूसरा व्यक्ति भी संक्रमित हो सकता है तो किसी के लिए पॉजिटिव बीमार होने के बाद खाना बनाना कितना मुश्किल होता होगा गहराई से महसूस करते हुए संस्थान द्वारा निर्णय लिया गया की ऐसे परिवारो की मदद की जाए, अर्चना कश्यप नागरिक सुरक्षा संगठन में आई. सी. ओ. का पद होने के नाते निगरानी समिति के सदस्य भी हैं सर्वे के दौरान भी पाया कि कई परिवार कोरोना से संक्रमित है इसी को देखते हुए काफी लोगों से संपर्क किया और संक्रमित परिवारों के यहां भोजन पहुंचाने की व्यवस्था की, किंतु लॉकडाउन होने की वजह से कुछ परिवार ऐसे भी है जिनका दिहाड़ी मजदूरी का काम छूट गया और वह घर पर ही खाली पड़े हैं ऐसे परिवारो के लिए राशन किट की व्यवस्था कर उनको राशन किट दी गई , कोरोनावायरस एक महामारी है किंतु कुछ लोग फिर भी सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं और वह बिना मास्क के घूमते हुए नजर आते हैं ऐसे लोगों को मास्क देकर उन को जागरूक किया जा रहा है संस्थान का प्रयास है कि प्रशासन के साथ हमारा भी दायित्व बनता है की हम लोग ऐसे लोगों को जागरूक करें जो अभी भी लापरवाही बरत रहे हैं और कभी भी संक्रमित हो सकते हैं और एक संक्रमित व्यक्ति कई लोगों को संक्रमित कर सकता है छोटी सी लापरवाही हमारे लिए बहुत हानिकारक साबित हो सकती है इस कोरोना की दूसरी लहर ने हमें सिखा दिया है कि यह एक अदृश्य चीज है जो कभी भी हमला कर सकती हैं जिससे किसी की भी जान जा सकती है इसलिए हमारा और हमारे समाज के हर व्यक्ति का दायित्व बनता है की हम सभी को मिलकर संक्रमण से बचने के लिए हाइजीन और मास्क लगाकर और एक जगह भीड़ इकट्ठा न करें बार-बार हाथ धोएं बस हमें इस तरह की सावधानियां को बरतना है और हम अपना जीवन बचा सकते हैं इस मुहिम में संस्थान के साथ लायंस क्लब रोशनी की अध्यक्षा सविता जैन, रूपा, सीमा, विशाल कुमार, दीपक जैन आस्था, ममता, अक्षत कुमार का सहयोग रहा।